Pulwama Attack: जंग की तैयारी कर रहा पाकिस्तान! अस्पतालों को दिए निर्देश- तैयारी रखो पूरी

पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत से बढ़े तनाव के मद्देनजर पाकिस्तान किसी जंग की आशंका से ग्रस्त होकर तैयारियों में जुट गया है। उसे भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई का डर सता रहा है। एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट में ऐसा बताया गया है। बता दें कि हाल ही में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी कहा था कि अगर भारत की ओर से जंग की पहल हुई तो उनका देश भी जवाब देगा।

द टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट में पाकिस्तानी अफसरों के आधिकारिक दस्तावेज के हवाले से कहा गया है कि पाकिस्तानी जंग की तैयारियों में जुट गया है। इसमें से एक दस्तावेज बलूचिस्तान स्थित पाक आर्मी बेस का है। वहीं, पाक अधिकृत कश्मीर में स्थानीय अधिकारियों की ओर से भेजा गया एक नोटिस भी इस ओर इशारा करता है। पाकिस्तान के क्वेटा स्थित हेडक्वॉटर्स क्वेटा लॉजिस्टिक एरिया के आर्मी बेस ने जिलानी अस्पताल को 20 फरवरी को लिखा है कि वे भारत के साथ जंग की आशंकाओं के मद्देनजर मेडिकल सपोर्ट की योजना तैयार कर लें।

जिलानी अस्पताल के अब्दुल मलिक को आर्मी बेस के फोर्स कमांडर आसिया नाज की ओर से लिखा गया है, ‘ईस्टर्न फ्रंट पर अचानक जंग छिड़ने के हालात में क्वेटा लॉजिस्टिक एरिया में घायल सैनिकों के पहुंचने की आशंका है। इन्हें सिविल और मिलिट्री अस्पतालों में शुरुआती ट्रीटमेंट दिए जाने के बाद सिविल और मिलिट्री अस्पतालों में बेड दोबारा से उपलब्ध होने तक बलूचिस्तान के सिविल अस्पताल शिफ्ट किया जाएगा।’ चिट्ठी के निर्देशों के मुताबिक, सभी प्राइवेट अस्पतालों से कहा गया है कि वे इस मकसद के लिए संबंधित सुविधाओं के साथ अपने 25 फीसदी बेड अलग तैयार रखें। खत के आखिर में लिखा है कि इस मुहिम के लिए पूरे पाकिस्तान से गर्मजोशी भरी प्रतिक्रिया मिली है और ऐसी ही उम्मीद बलूचिस्तान से भी की जा रही है
पुलवामा हमले को 4 दिन बीत चुके हैं। लोगों के मन में गुस्सा है तो वहीं भारत सरकार ने पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए कई अहम फैसले लिए हैं।

उधर, गुरुवार को पीओके की सरकार ने लाइन ऑफ कंट्रोल से सटे नीलम, झेलम, रावलकोट, हवेली, कोटली और भीमबेर के अधिकारियों को चिट्ठी लिखकर कहा कि वे अपने नागरिकों को अडवाइजरी जारी करें और उन्हें इंडियन आर्मी की ओर से किसी संभावित हमले के लिए आगाह करें। नागरिकों से यह भी कहा गया है कि वे सुरक्षित रास्तों का इस्तेमाल करें। इसके अलावा, रात मे वेवजह रोशनी का इस्तेमाल न करें। बता दें कि इससे पहले यह खबर आ चुकी है कि भारत की ओर से किसी जवाबी प्रतिक्रिया के डर से पाक अधिकृत कश्मीर में बने आतंकी लॉन्चपैड्स से आतंकियों को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *