महाराष्ट्र मुख्यमंत्री पर आचार संहिता भंग करने का आरोप मुम्बई पालघर से महाराष्ट्र स्टेट हेड मोहम्मद अनीस सिद्दीकी की खास रिपोर्ट पढ़िए हमारे साथ


चुनाव आयोग से किया आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग : कांग्रेस  
पालघर :  भाजपा की ओर से पालघर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के उपचुनाव में सत्ता, पैसा और धार्मिक स्थलों और सरकारी मशीनिरियों का बड़े पैमाने पर दुरूपयोग किया जा रहा है| कांग्रेस के महासचिव व प्रवक्ता सचिन सावंत द्वारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पर चुनाव आचार संहिता भंग करने के गंभीर आरोपी लगाये जा रहे है| कांग्रेस की ओर से चुनाव आयोग को लिखित शिकायत कर आचार संहिता भंग करने पर मुख्यमंत्री पर मामला दर्ज करने की मांग की गयी है| इस अवसर पर शिष्टमंडल में कांग्रेस उम्मीदवार दामोदर शिंगड़ा और चुनाव प्रतिनिधि चंद्रकांत दुबे, नगर सेवक अमर वाजपेयी और महेश देसाई सहित एनसीपी के पदाधिकारियों ने भाग लिया।ज्ञात हो कि पालघर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के उपचुनाव को लेकर जिले में चुनाव प्रचार का माहौल गर्म होता जा रहा है| सभी राजनीतिक पार्टियां जोर-शोर से अपने-अपने उम्मीदवारों के प्रचार-प्रसार करने में लगी हुई है| इस बीच कांग्रेस शिष्टमंडल की ओर से पालघर जिलाधिकारी व चुनाव निर्णय अधिकारी कार्यालय में  डॉ. प्रशांत नारनरवे से मुलाकात कर मुख्यमंत्री देंवेंद्र फडनवीस द्वारा आचार संहिता भंग करने के मामले में उन पर आपराधिक मामला दर्ज करने की लिखित रूप से शिकायत की गयी| सावंत की ओर से अगले कई चुनाव में मुख्यमंत्री की ओर से नागरिकों को झूठी आश्वासन और लालच देकर आदेशों की घोषणा किया गया तथा अपने पद का दुरूपयोग करते हुए आचार संहिता को भंग कर रहे है| कल्याण-डोंबिवली महानगर पालिका और पेण नगरपालिका चुनाव के दरम्यान अचार संहिता भंग करने के मामले की कांग्रेस पार्टी की ओर से चुनाव आयोग में शिकायत किया गया था, लेकिन शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। २० मई को मुख्यमंत्री की ओर पालघर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार के प्रचार-प्रसार के आयोजित सभा को संबोधित करते हुए कर्ज माफ करना, पालघर में एक मेडिकल कॉलेज का निर्माण और वसई-विरार के 29 गांवों को अलग कर नगर निगम की घोषणा आदि कई लोकलुभावन योजना की लालच दी जा रही है | उक्त मामले में चुनाव आयोग को स्वयं कार्रवाई करनी चाहिए, लेकिन आयोग की ओर से कार्रवाई नहीं की गयी|  मजबूर होकर कांग्रेस पार्टी को चुनाव आयोग में शिकायत की गयी| सावंत ने कहा कि नागरिकों में एक चर्चा का विषय बना हुआ है कि चुनाव आयोग सरकार के दबाव में काम रही है? 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *