यादों के झरोखों से: शानदार डॉन

बॉलीवुड और अमिताभ बच्चन की बेहद कामयाब फिल्मों में से एक ‘‘डॉन’’ को रिलीज हुए करीब 40 साल हो गए लेकिन यह बात कम ही लोग जानते होंगे कि अमिताभ और जीनत अमान के इस फिल्म को साइन करने से पहले कई कलाकारों ने इसमें काम करने से इनकार कर दिया था। अमिताभ , जीनत और फिल्म के निर्देशक चंद्रा बरोट ने अपने एक दोस्त को कर्ज से उबारने के लिए इस ‘‘मुश्किल’’ प्रोजेक्ट को स्वीकार किया। अमिताभ बच्चन की दोहरी भूमिका वाली ‘‘डॉन’’ 12 मई 1978 को रिलीज हुई और ब्लॉकबस्टर साबित हुई। साक्षात्कार में चंद्रा ने बताया कि कैसे एक बार उन्होंने सही तरीके से एक दृश्य फिल्माने के लिए अमिताभ बच्चन को 40 पान खिलाए।

फिल्म ‘‘रोटी कपड़ा और मकान’’ की शूटिंग के दौरान अमिताभ और जीनत और फिल्म के सिनेमेटोग्राफर नरीमन ईरानी से दोस्ती हो गई। जिसे वो प्यार से ‘‘बावा ’ कहते थे। ईरानी ने 1972 में ‘‘जिंदगी जिंदगी’’ बनाई लेकिन फिल्म पिट गई। उन्होंने कहा कि हमनें बावा को कर्ज से उबारने के लिए फिल्म बनाने का फैसला किया। चंद्रा नबताया कि सलीम खान के पास कोई स्क्रिप्ट तैयार नहीं थी। लेकिन एक विषयथा जिसे कोई समझता नहीं था।
70 के दशक में हमारे यहां ‘ठाकुर’ होते थे और किसी ने ‘डॉन’ शब्द नहीं सुना था। चंद्रा ने कहां, ‘‘धर्मेंद्र, जितेंद्र और देव आनंद ने इस फिल्म से इनकार कर दिया था। हम पोस्टर पर सलीम-जावेद लिखा देखना चाहते थें। यह एक तैयार स्क्रिप्ट थी। इसका शीर्षक भी नहीं था। इंडस्ट्री में हर कोई इसे ‘डॉन वाली स्क्रिप्ट’ कहता था। आखिर फिल्म के संवाद, एक्शन ने इसे यादगार बना दियां।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *