दम हो तो संविधान को हाथ लगा कर दिखाओ- राहुल गांधी का बीजेपी और आरएसएस को ओपन चैलेंज

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दौर में पहुंचने के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को बैंगलुरू में बीजेपी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी और आरएसएस में दम है तो वह भारत के संविधान को छू कर दिखाए। राहुल ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी जी के मंत्री कहते हैं कि संविधान को खत्म करो, बदलो, नरेंद्र मोदी जी के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है। अब मेरे मुंह से आप सुनिए भारत के संविधान को नरेंद्र मोदी, आरएसएस चाहे कोई भी हो, हिंदुस्तान के संविधान को हम छूने नहीं देंगे। आप छू के तो दिखाओ, दम है तो इस संविधान को छू के तो दिखाओ, फिर देखो हम क्या करते हैं।’

राहुल गांधी ने कहा, ‘मोदी जी जहां भी जाते हैं, अंबेडकर जी की मूर्ति के सामने हाथ जोड़ते हैं, लेकिन जहां कहीं भी दलितों के ऊपर अत्याचार होता है, उनके मुंह से एक भी शब्द नहीं निकलता। नारा दिया गया था कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ। मैं कहता हूं कि अब नारा बदल देना चाहिए, अब होना चाहिए कि बीजेपी के विधायकों से बेटियों को बचाओ।

इसके अलाव भाजपा पर हमले तेज करते हुए कहा बुधवार को कहा कि ‘भ्रष्टाचार में इस पार्टी का कोई मुकाबला नहीं है।’ उन्होंने कहा कि अगर पीएम मोदी भ्रष्टाचार पर बात करते हैं तो उन्होंने येदियुरप्पा जो एक भ्रष्ट नेता हैं, उन्हें मुख्यमंत्री का उम्मीदवार किसने बनाया। राहुल गांधी ने कहा, ‘मोदी जी कहते हैं कि 70 सालों में कांग्रेस ने देश के लिए कुछ नहीं किया। अगर ऐसा है तो बैंगलुरू आईटी हब कैसे बन गया, इतना बड़ा शहर कैसे बन गया, मैं कहता हूं कि ये सब आपने किया, आपके माता पिता ने किया। अगर मोदी जी कहते हैं कि बैंगलुरू में कुछ नहीं हुआ तो इसका सीधा मतलब यह हुआ कि वह आपके माता पिता का अपमान कर रहे हैं। कर्नाटक के किसान ने, मजदूर ने, यहां के लोगों ने इस राज्य को बनाया। कांग्रेस ने आपकी मदद जरूर की, लेकिन इस राज्य को आपने बनाया।’
कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे कहा, ‘आज यहां पर विचारधारा की लड़ाई है, एक तरफ नफरत, एक तरफ भाईचारा, एक तरफ समाज को बांटने का काम, दूसरी तरफ समाज को जोड़ने का काम। कांग्रेस पार्टी ने आपको जोड़ने का काम किया है। हमने प्यार से काम किया है, नफरत नहीं फैलाते। आपने देखा होगा कि मोदी जी आते हैं, किसी न किसी की बुराई कर जाते हैं, लेकिन आपने कांग्रेस पार्टी के नेताओं को देखा होगा, हम मोदी जी के खिलाफ बोलते हैं, हम उनके खिलाफ लड़ते हैं, लेकिन हम प्रधानमंत्री के पद का आदर करते हैं। मोदी जी जैसा बोलते हैं उससे प्रधानमंत्री पद का अपमान होता है, लेकिन मैं यह बात दोहराना नहीं चाहूंगा।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *