योगी सरकार में मरीजो के सेहत के साथ हो रहा खिलवाड़,,,,

 बहराइच से देवीपाटन मंडल ब्यूरो विजय प्रताप गुप्ता की रिपोर्ट                                                                                    
  *बहराइच* ब्लाक तजवापुर के नया प्राथमिक उपचार केंद्र नेवादा का है मामला,,,,                                                                                                                           

               कोई भी डॉक्टर नही हुई है नियुक्ति,,फार्मेसिस्ट एव  एएनएम भरोसे हो रहा है मरीजो का इलाज,,,,,,,,,,                                           विधुत कनेक्शन कटे हुए, दरवाजे टूटे, कमरे में  शौचालय की हालत बेहद खराब, खिड़कियों के शीशे टूटे हुए, गंभीर स्थिति में आये मरीजो को भेज देते है। जिला अस्पताल,दवाइयों की अभाव के कारण हो रहा मरीजो का चल रहा इलाज, गर्भवती महिलाओं  के लिए कोई इंतेजाम नही है। प्रसव वाली महिलाओं को इलाज न मिलने के कारण वे निराश व बड़ी कठिनाई एवम दर्द के साथ बहराइच जिला अस्पताल  जाना पड़ता है।कुछ महिलाएं तो रास्ते मे प्रसव के कारण म्रत्यु भी हो जाती है।फार्मेसिस्ट का कहना है कि उन्होंने समय समय अपने बड़े चिकित्सा अधिकारियो को अवगत भी कराया लेकिन चिकित्सा अधिकारियों ने उनकी बात को संज्ञान में न लेकर कोई कार्यवाही नही की।इस मामले में चिकित्सा अधिकारियों की लापरवाही सामने नजर आते दिख रही है।इंडियन पब्लिक हेल्थ स्टेंडर्ड के मानकों के अनुसार देखा जाए तो प्रत्येक पीएचसी (प्राथमिक उपचार केंद) में सात चिकित्सक( एमबीबीएस व आयुष) तैनात होने चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *