मथुरा में पहुंचे दो शहीदों के शव, उमड़ा जनसमूह


जनपद की माटी में जन्मे दो जांबाज सैनिकों ने देश सेवा करते हुए अपने प्रांणों की आहुति दे दी। एक असम में तो दूसरे ने अरुणाचल प्रदेश में शहीद हुआ। दोनों के शव शुक्रवार की सुबह मथुरा स्थित उनके गांवों में लाए गए। यहां जनसमूह ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान वंदेमातरम के नारों से माहौल गूंजता रहा।
बलदेव विकास खण्ड के नगला लोका के रोहताश पुत्र पप्पू सिंह 28 मार्च को अरूणाचल प्रदेश के तमांग में हुए बम ब्लास्ट में शहीद हो गए। शुक्रवार की सुबह उनका पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो लोग उनके अंतिम दर्शन के लिए उमड़ बड़े। लेकिन प्रशासन की ओर से कोई अफसर शहीद के अंतिम संस्कार में शामिल होने नहीं पहुंचा, जिससे गांव के लोगों में आक्रोश देखने को मिला।

वहीं चौमुंहा के कालीचरण पुत्र सामंता असम के गोहाटी में शहीद हो गए। उनका पार्थिव शरीर जब गांव पहुंचा तो जन समुह उनके अंतिम दर्शन के लिए उमड़ पड़ा। उनकी शव यात्रा में केबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मीनरायन, विद्युतमंत्री के प्रतिनिधि सूर्यकांत शर्मा व एसडीएम छाता शामिल हुए। केबिनेट मंत्री ने शहीद कालीचरण के परिवार को 20 लाख रुपये व आश्रित को सरकारी नौकरी दिए जाने का वादा किया। साथ ही उन्होंने कहा गांव में विधायक निधि से शहीद द्वार बनाया जाएगा और पांच लाख रुपये शहीद की मूर्ति लगाने को दिए जायेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *